astroADMIN

PCOS & PCOD

PCOS & PCOD

PCOS and PCOD AYURVEDA AND PCOS Ayurveda classifies PCOS as a kapha disorder. Arthava dhatu is the tissue responsible for reproduction in the female body and the channel that carries the reproductive fluid is called artavavaha srota. PCOS occurs when excess kapha blocks the natural balanced flow of these fluids and channels MODERN MEDICAL PCOD is…

राशि नक्षत्रादि व्यंजन से फलादेश | Sign, Nakshatra, Consonant, Vowel, Tithi & War Results

राशि नक्षत्रादि व्यंजन से फलादेश | Sign, Nakshatra, Consonant, Vowel, Tithi & War Results

राशि, नक्षत्रादि व्यंजन से फलादेश सर्वत्तोभद्रचक्र से फलादेश की संवेदनशील पंचशालकों पर ग्रहों के गोचर तथा वेधन जातक को शुभाशुभ फल प्रदान करती है। राशि, नक्षत्रादि व्यंजन का फल विस्तार से नीचे दिया गया है: राशि जन्म कुण्डली में चंद्र राशि संवेदनशील है। नक्षत्र – चंद्रमा जिस नक्षत्र पर जन्मकालीन बैठा है वह संवदेनशील है।…

 नाखून (Nails) से बीमारियों का कैसे पता लगायें|

 नाखून (Nails) से बीमारियों का कैसे पता लगायें|

THE FINGER NAILS LONG NAILS: The person is simple with no inclination for a particular subject. He also shows timidity and cowardice. If the nails are long, narrow and shiny with large opaque moons, they are indicative of hyperthyroidism. This is because metabolism is accelerated in this disease, so the heart beat rate and there…

ग्रहों की पूजा|

ग्रहों की पूजा|

ग्रहों की पूजा ग्रहों के अशुभ प्रभावों से रक्षा के लिए ग्रहों की पूजा का विधान है। जो ग्रह कुंडली में अशुभ होते हैं, उस ग्रह अथवा महादशानाश / अंतर्दशानाश की पूजा एवं इनके मंत्रों का जाप पूरे विधि-विधान से करने से संबंधित ग्रह अपने अशुभत्व को छोड़कर जातक को शुभ फल प्रदान करते हैं।…

Tara (Nakshatras) | तारा (नक्षत्र)

Tara (Nakshatras) | तारा (नक्षत्र)

TARA The Nakshatra occupied by the Moon at the time of birth is called Janam Tara. The 10th nakshatra from the Janam tara is called Anujanma and the 19th is called Trijanma. All 3 nakshatras are ruled by the same planet e.g. for a person born when the Moon was in Hasta nakshatra, Hasta becomes…

Sade Satti of Saturn | शनि की साढ़े साती

Sade Satti of Saturn | शनि की साढ़े साती

SADE SATI OF SATURN Sade sati is a period with many challenges the duration of which is 7 and half years. The period of Sade-sati starts when Saturn enters the zodiac sign immediately before the Moon sign of the native. The Sade sati will continue while Saturn transits over this sign and the next two…

Transits And The Divisional Chart | वर्ग चार्ट के ऊपर गोचर

Transits And The Divisional Chart | वर्ग चार्ट के ऊपर गोचर

Transits and the Divisional Charts The Dasha and Transit Synthesis We know that the promises contained in a horoscope are timed for delivery in a specified quantity by Dasha Planets. Identification of timing and the Quantity of fructification are done by analyzing the interaction of Dasha Planets with concerned Divisional Charts. The actual delivery is…

Sapta Shalaka Chakra | सप्त शलाका चक्र

Sapta Shalaka Chakra | सप्त शलाका चक्र

रेखाःसप्तशमालिखेदुपरिगाास्तिर्यक्तथैवक्रमा दीशादग्रिभमादितोऽपिगणेयदादित्यभस्यावधि। वेधाजन्मदिनेगृतिर्भयमथाधानाख्यनक्षत्रके कर्मण्यर्थविनाशनंखलुरविर्दघात्सपापोमृतिम्।। 7 रेखाएँ खड़ी व 7 पड़ी खीचें। अब ईशान कोण से शुरू करते हुए अभिजित् सहित 28 नक्षत्र लिख लें। नक्षत्र कृत्तिका से शुरू करें। यदि सूर्य के नक्षत्र का वेध जन्म नक्षत्र (दिन) से हो तो प्राणों का संशय उपस्थित होता है। •आधान नक्षत्र (19वाँ) विद्ध हो तो भय की…

How to Suggest Remedy | उपाय कैसे बनायें

How to Suggest Remedy | उपाय कैसे बनायें

ग्रहों से संबंधित देवताओं की पूजा कुंडली में स्थित अशुभ ग्रहों की पीड़ा के शमन के लिए ग्रहों से संबंधित देवताओं की पूजा की जाती है। वे ग्रहों के देवता होते हैं, जैसे सूर्य के देवता अग्नि, चंद्र के वरुण आदि हैं। इन देवताओं की पूजा करने स्बावत ग्रहों के दोषों का शमन हो जाता…

WHAT IS TANTRA?

WHAT IS TANTRA?

तंत्र किसी संकट अथवा समस्या से निजात पाने के लिए तंत्र का सहारा लिया जाता है। तंत्र से बिना पूजा-पाठ व विशेष परिश्रम के कार्य हो जाता है। तंत्र में कुछ विशेष सामग्रियों का इस्तेमाल किया जाता है जैसे : बिल्ली की जेर, हत्था जोड़ी, सियार सिंगी आदि। इन वस्तुओं के प्रयोग से हर प्रकार…